Skip to main content

Biography Of Irrfan Khan/इरफान खान का जीवन परिचय

Biography Of Irrfan Khan

Birth : 7 November 1979
Death : 29 April 2020
Birth Place : Gwalior (Madhya Pradesh)
Wife : Sutapa Sikdar
Son : Ayan Khan & Babil Khan
First Movie : Salam Bombay
Last Movie : Angrezi Medium
Net worth : 321 Crore

Shahbazade Irrfan Ali Khan (Irrfan Khan, Irrfan) is an actor in Hindi, English films and television.  He made his acting debut in films like The Warrior, Maqbool, Haasta, The Namesake, Rog.  He also received the Filmfare Best Villain Award for the year 2007 for the film.  He has acted in more than 30 Bollywood films.  Irrfan is also a well-known name in Hollywood.  He has also appeared in the films A Mighty Heart, Slumdog Millionaire and The Amazing Spider-Man.  Awarded Padma Shri by the Government of India in 2011.

 At the 60th National Film Awards 2012, Irrfan Khan received the Best Actor Award for his performance in the film Paan Singh Tomar.  Irrfan Khan is an Indian film actor and he is known for his strong acting in Bollywood, he is also known for his work in Hollywood films, he has been awarded three times Filmfare Awards and best film as 'Paan Singh Tomar'  He has also been awarded the National Award for the Padma Shri, he has been awarded the audience, he believes that he performs the whole act with his own eyes and this is also his specialty, he is famous for doing films out of the box.

 Irfan Khan (full name Mohammad Irfan Khan - born 7 November 1979) was born in Gwalior city of Madhya Pradesh.  Local newspapers continued to make cartoons in Dainik Bhaskar and Swadesh from 42-1989.  He was selected for Navbharat Times Lucknow during his exhibition at Delhi's Shreedharani Art Gallery.  He came to Delhi in 1919 and was a staff cartoonist in Economic Times, Financial Express, Asian Age.

 In 2000 Zee News hosted his talk show Celebrity while working as a Senior Cartoonist, wrote the script of NDTV's show Gustakhi Maaf in 2003 and hosted so much talk on Sahara time.  3 collections have been published so far.  Editorial cartoons of various other cartoonists of the country including Irfan were also included in the course books of ANCERT.  Japan Foundation selected Irfan from India to select one cartoonist from each Asian country for the ninth exhibition in 2005, as part of its annual program of "Asian Cartoon Exhibition".

 Actor Irfan Khan, who left his acting mark from Bollywood to Hollywood, is known all over the world today.  All-rounder actor Irrfan Khan has impressed audiences of all classes with his acting.  Irrfan Khan has a different style of his own, he is such an artist that with his tremendous acting, he kills any character.  Recently, Hollywood actor Tom Hanks said that Irfan's eyes also act.  Like his different roles, his love story is also very interesting..Let's know the story of his and Sutpa's love.

 Irfan Khan had an early phase, Irrfan was on the road.  He had nothing to eat, a girl came into his life at that time.  But the biggest problem started when he entered NSD.  At the same time, his father died.  The source of income of the household ended.  The doors closed for Irfan getting money from the house.  After the father's death, he now had only fellowship from NSD.

 Irfan kept breaking down with the problems of NSD along with domestic troubles.  A girl used to watch all these things very carefully.  She was a classmate of Irrfan, only in NSD.  She was from Delhi and was interested in Irrfan.  There was a time when Irfan came to eat to eat.  At that time, the girl from Delhi supported Irfan.

 His father used to trade tires.  Irfan, despite being a Pathan family, has been a vegetarian since childhood, his father always used to tease him by saying that a Brahmin was born in the Pathan family.  He took acting training at the National School of Drama (NSD) in Delhi in 1984.  He also got scholarship.  Irfan Khan's early phase was full of struggle.  His father died when he entered NSD.  The source of income of the household ended.  They stopped getting money from home.  His only support was the fellowship from NSD.

 Raised in Jaipur, Irfan Khan was studying MA when he received a scholarship for training at the National School of Drama.  Irfan Khan moved to Mumbai after being trained in acting from Delhi-based National School of Drama.  After coming to Mumbai, he got busy with serials.  Irrfan Khan's excellent performance in popular serials like Chanakya, Chandrakanta, Star Best Sellers caught the attention of filmmaker-directors.

 He got an opportunity to play a guest role in Mira Nair's esteemed film Salaam Bombay.  After Salaam Bombay, Irrfan Khan continued to act in offbeat films.  After acting in parallel films like Death of a Doctor, Death of Kamala and Pratha, Irrfan Khan turned to mainstream films.  In the negative role of Irfan Khan, Irfan Khan proved his acting ability.  He also became the choice of mainstream producer-directors.

 Irrfan Khan is among those actors of the present era who do not limit themselves to the scope of the role of a hero in films.  He also plays a central role in Maqbool, Rog and Billu, if he plays important character roles in films like Life in a Metro, Aaja Nachle, Crazy 4 and Sunday.  Irfan Khan, who has a serious actor image, has been appearing for the audience from time to time in comedic roles.  The name Irfan Khan is enough.  The magic of his acting is not only in India, but the people of the whole world are overshadowed.  But you will be surprised to know that he also started his life with a junior artist.

 Irrfan was appreciated by the audience for the first time for the film 'Haasth'.  In 2003, he received the Best Villain Award at Filmfare for the film 'Haasta'.  Irrfan made his acting debut in films like The Warrior, Maqbool, Haasti, The Namesake, Rog, Piku.  Irrfan Khan says that audience appreciation matters to any artist and this encourages him.  His recently released Hollywood film Inferno has also been appreciated by the audience.  Irrfan said in a statement, "It doesn't matter how many films you have done.

 Every artist is happy with the audience's appreciation.  It means a lot to the actors. "  The actor's film 'Inferno' was released in India and America.  He was highly praised for this film.  Irfan says it is like an award for him.  Irrfan Khan said that his dream is to do a film based on the biography of a famous player like Dhyan Chand.  Although a lot of time has passed, he is still ready to play the role of Dhyan Chand.  These things are said by Irrfan Khan after the release of Paan Singh Tomar's DVD.  He said that it would be a matter of pride for him to work in a film based on a biography of a player like Dhyanchand.  He said that Dhyanchand's playing life was very exciting, so we must make a film on him.

 He tied the knot with writer Sutpa Sikdar on 23 February 1995.  Sutpa also studied with him in NSD.  They also have two sons - Naam Babil and Ayan.  He is known as an actor in Hindi, English films and television.  The versatile rich Irrfan Khan has worked in many memorable films in his 28-year film career.  Irrfan has also been active in Hollywood along with Bollywood.  He has also worked in films like 'Jurassic World' and 'Spider Man'.

 After training from NSD, Irfan moved from Delhi to Mumbai and went on to work in serials like Chanakya, Bharat Ek Khoj, Sara Jahan Hamara, Banegi Apni Baat, Chandrakanta and Srikanth.  He tied the knot with writer Sutpa Sikdar on 23 February 1995.  Sutpa also studied with him in NSD.  They also have two sons - Naam Babil and Ayan.  The versatile rich Irrfan Khan has worked in many memorable films in his 28-year film career.

Hollywood

 Irrfan has also been active in Hollywood along with Bollywood.  He has also worked in films like Jurassic World and Spider Man.  Irrfan first played an important role in the 2005 film Rog.  After this, Irfan Khan also received the Filmfare Award for Best Villain of that year for the film.  After that, Irfan also worked in Lunchbox, Gunday, Hyder, Piku and Jurassic World.  Irrfan Khan was awarded the National Award for the film Paan Singh Tomar and was also honored with the Padma Shri on behalf of the Government of India in the year 2011.

बायोग्राफी ऑफ इरफान खान हिंदी में

शाहबजादे इरफान अली खान (इरफ़ान ख़ान, इरफान) हिन्दी अंग्रेजी फ़िल्मों, व टेलीविजन के एक अभिनेता हैं। उन्होने द वारियर, मकबूल, हासिल, द नेमसेक, रोग जैसी फिल्मों मे अपने अभिनय का लोहा मनवाया। हासिल फिल्म के लिये उन्हे वर्ष २००४ का फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ खलनायक पुरस्कार भी प्राप्त हुआ। वह बालीवुड की ३० से ज्यादा फिल्मों मे अभिनय कर चुके हैं। इरफान हॉलीवुड मे भी एक जाना पहचाना नाम हैं। वह ए माइटी हार्ट, स्लमडॉग मिलियनेयर और द अमेजिंग स्पाइडर मैन फिल्मों मे भी काम कर चुके हैं। 2011 में भारत सरकार द्वारा पद्मश्री से सम्मानित किया।

        60वे राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार 2012 में इरफ़ान खान को फिल्म पान सिंह तोमर में अभिनय के लिए श्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार दिया गया।  इरफान खान भारतीय फिल्‍म अभिनेता हैं और वे बॉलीवुड में अपने दमदार अभिनय के लिए जाने जाते हैंा वे अपने हॉलीवुड फिल्‍मों में किए गए कामों की वजह से भी जाने जाते हैंा उन्‍हें तीन बार फिल्‍मफेयर पुरस्‍कार और सर्वश्रेष्‍ठ अभिनेता के तौर पर फिल्‍म 'पान सिंह तोमर' के लिए राष्‍ट्रीय पुरस्‍कार भी मिल चुका हैा उन्‍हें पद्मश्री सम्‍मान से भी नवाजा जा चुका हैा दर्शक ऐसा मानते हैं कि वे अपनी आंखों से ही पूरा अभिनय कर देते हैं और यही उनकी विशेषता भी हैा वे लीक से हटकर फिल्‍में करने की वजह से मशहूर हैा 

        इरफ़ान ख़ान (पूरा नाम मोहम्मद इरफ़ान खान- जन्म ४ नवंबर १९६६) का जन्म मध्य प्रदेश के ग्वालियर  शहर में हुआ था। स्थानीय अखबार दैनिक भास्कर और स्वदेश में सन ८२-१९८९ तक कार्टून बनाते रहे। दिल्ली की श्रीधरणी आर्ट गैलरी में अपनी प्रदर्शिनी के दौरान वे नवभारत टाइम्स लखनऊ के लिये चुन लिये गए। १९९४ में दिल्ली आकर इकोनोमिक टाइम्स, फ़ाइनेन्शिअल एक्स्प्रेस,एशियन ऐज, में स्टाफ़ कार्टूनिस्ट रहे।

        २००० में ज़ी न्यूज़ में वरिष्ठ कार्टूनिस्ट के पद पर काम करते हुए अपना टाक शो शख्शियत होस्ट किया, २००३ में एनडीटीवी के शो गुस्ताखी माफ़ की स्क्रिप्ट लिखी और सहारा समय पर इतनी सी बात होस्ट किया। अब तक ३ संकलन प्रकाशित हो चुके हैं। एन्सीईआरटी के पाठ्यक्रम की पुस्तकों में इरफ़ान सहित देश के विभिन अन्य कार्टूनिस्टों के संपादकीय कार्टूनों को भी शामिल किया गया था। जापान फ़ाउन्डेशन ने "एशियाई कार्टून प्रदशनी" के अपने वार्षिक कार्यक्रम के तहत, २००५ में नौवी प्रदर्शिनी के लिए प्रत्येक एशियाई देश से एक कार्टूनिस्ट के चयन हेतु भारत की ओर से इरफ़ान का चयन किया।

        बॉलीवुड से हॉलीवुड तक अपने अभिनय की छाप छोड़ने वाले अभिनेता इरफान खान को आज पूरी दुनिया जानती हैं। ऑलराउंडर अभिनेता इरफान खान ने अपनी अभिनय के दम पर हर वर्ग के दर्शकों को प्रभावित किया है। इरफान खान का अपना एक अलग अंदाज है, वो एक ऐसे कलाकार हैं कि अपने जबरदस्त अभिनय से किसी भी किरदार में जान डाल देते हैं। हाल ही में हॉलीवुड अभिनेता टॉम हैंक्स ने कहा कि इरफान की तो आंखें भी एक्टिंग करती हैं। उनके अलग अलग रोल्स की तरह उनकी लव स्टोरी भी काफी दिलचस्प है..आइए जानते है उनके और सुतपा के प्यार की कहानी।

        इरफान खान का शुरूआती दौर था, इरफान सड़क पर थे। उनके पास खाने के लिए कुछ नहीं था, उस वक्त एक लड़की उनकी जिंदगी में आई। लेकिन सबसे बड़ी परेशानी तब शुरू हुई जब उनका एनएसडी में प्रवेश हुआ। उन्हीं दिनों, उनके पिता की मृत्यु हो गई। घर के आय का स्रोत ही समाप्त हो गया। इरफान के लिए घर से पैसे मिलने के दरवाजे बंद हो गए। पिता की मौत के बाद अब उनके पास बस एनएसडी से मिलने वाली फेलोशिप ही सहारा थी।

        घरेलु परेशानियों के साथ एनएसडी की परेशानियां सहते-सहते इरफान टूटते जा रहे थे। इन सारी बातों को बड़े गौर से एक लड़की देखा करती थी। वह इरफान की सहपाठी थी, एनएसडी में ही। दिल्ली की रहने वाली थी और उन्‍हें इरफान में दिलचस्पी थी। एक दौर ऐसा भी आया, जब इरफान के पास खाने के लिए लाले पड़ गए। उस दौर में उस दिल्ली की लड़की ने इरफान का साथ दिया। 

        उनके पिता टायर का व्यापार करते थे। पठान परिवार के होने के बावजूद इरफान बचपन से ही शाकाहारी हैं, उनके पिता उन्हें हमेशा यह कहकर चिढ़ाते थे कि पठान परिवार में ब्राह्मण पैदा हो गया। उन्होंने वर्ष 1984 में दिल्ली के राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय (एनएसडी) में अभिनय का प्रशिक्षण लिया। उन्हें स्कॉलरशिप भी मिली। इरफान खान का शुरुआती दौर संघर्ष से भरा था। जब उनका एनएसडी में प्रवेश हुआ, उन्हीं दिनों उनके पिता की मृत्यु हो गई। घर के आय का स्रोत ही समाप्त हो गया। उन्हें घर से पैसे मिलना बंद हो गया। उनके पास बस एनएसडी से मिलने वाली फेलोशिप ही सहारा थी।

        जयपुर में पले-बढ़े इरफ़ान ख़ान एमए की पढ़ाई कर रहे थे, जब उन्हें नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा में प्रशिक्षण के लिए स्कॉलरशिप मिला। दिल्ली स्थित नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा से अभिनय में प्रशिक्षित होने के बाद इरफ़ान ख़ान  ने मुंबई का रूख किया। मुंबई आने के बाद वे धारावाहिकों में व्यस्त हो गए। चाणक्य, चंद्रकांता, स्टार बेस्ट सेलर्स जैसे लोकप्रिय धारावाहिकों में इरफ़ान ख़ान के बेहतरीन अभिनय ने फिल्म निर्माता-निर्देशकों का ध्यान अपनी ओर खींचा।

        मीरा नायर की सम्मानित फिल्म सलाम बांबे में उन्हें मेहमान भूमिका निभाने का अवसर मिला। सलाम बांबे के बाद इरफ़ान ख़ान लगातार ऑफबीट फिल्मों में अभिनय करते रहें। एक डॉक्टर की मौत,कमला की मौत और प्रथा जैसी समांतर फिल्मों में अभिनय के बाद इरफ़ान ख़ान  ने मुख्य धारा की फिल्मों की ओर रूख किया। हासिल में रणविजय सिंह की नकारात्मक भूमिका में इरफ़ान ख़ान ने अपनी अभिनय-क्षमता का लोहा मनवाया। देखते-ही-देखते वे मुख्य धारा के निर्माता-निर्देशकों की भी पसंद बन गए।

        इरफ़ान ख़ान मौजूदा दौर के उन अभिनेताओं में हैं,जो स्वयं को फिल्मों में नायक की भूमिका के दायरे तक सीमित नहीं करते। वे यदि लाइफ इन ए मेट्रो, आजा नचले, क्रेजी 4 और सनडे जैसी फिल्मों में महत्वपूर्ण चरित्र भूमिकाएं निभाते हैं, तो मकबूल,रोग और बिल्लू में केंद्रीय भूमिका भी निभाते हैं। गंभीर अभिनेता की छवि वाले इरफ़ान ख़ान समय-समय पर हास्य-रस से भरपूर भूमिकाओं में भी दर्शकों के लिए उपस्थित होते रहे हैं। इरफान खान नाम ही काफ़ी है. इनकी एक्टिंग का जादू सिर्फ हिंदुस्तान में ही नहीं पूरी दुनिया के लोगों पर छाया हुआ है. लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि इन्होंने भी अपने जीवन की शुरुआत जूनियर कलाकार से की थी.

        इरफान को फ़िल्म ‘हासिल’ के लिए पहली बार दर्शकों ने सराहा. 2003 में फ़िल्म ‘हासिल’ फिल्म के लिये उन्हे फ़िल्मफ़ेयर में सर्वश्रेष्ठ खलनायक पुरस्कार प्राप्त हुआ. इरफान ने फ़िल्म द वारियर, मकबूल, हासिल, द नेमसेक, रोग, पीकू जैसी फिल्मों में अपने अभिनय का लोहा मनवाया. इरफान खान का कहना है कि दर्शकों की सराहना किसी भी कलाकार के लिए मायने रखती है और इससे उनका उत्साहवर्धन होता है. हाल में आई उनकी हॉलीवुड फिल्म ‘इनफर्नो’ को भी दर्शकों ने खूब सराहा है. इरफान ने एक बयान में कहा, “यह मायने नहीं रखता कि आपने कितनी फिल्में की हैं.

        दर्शकों की सराहना से हर कलाकार खुश होता है. यह अभिनेताओं के लिए बहुत मायने रखती है.” अभिनेता की फिल्म ‘इनफर्नो’ भारत और अमेरिका में रिलीज हुई. इस फिल्म के लिए उनकी काफी प्रशंसा हुई. इरफान का कहना है यह उनके लिए पुरस्कार जैसा है. इरफान खान ने कहा कि उनका सपना है कि वह ध्यान चंद जैसे विख्यात खिलाड़ी की जीवनी पर आधारित एक फिल्म करे। हालांकि अब काफी वक्त बीत गया है, लेकिन आज भी ध्यान चंद के किरदार को निभाने के लिए वह तैयार है। यह बातें पान सिंह तोमर की डीवीडी रिलीज के पश्चात इरफान खान ने कहीं है। उन्होंने कहा कि ध्यानचंद जैसे खिलाड़ी की जीवनी पर आधारित फिल्म में काम करना उनके लिए गर्व की बात होगी। उन्होंने कहा कि ध्यानचंद का खेल जीवन काफी रोमांचक था, इसलिए हमें उनपर एक फिल्म जरूर बनानी चाहिए।

        वह 23 फरवरी, 1995 को लेखिका सुतपा सिकदर के साथ विवाह के बंधन में बंध गए। सुतपा भी एनएसडी में उनके साथ पढ़ी हैं। उनके दो बेटे भी हैं-नाम बाबिल और अयान। उन्हें हिंदी, अंग्रेजी फिल्मों व टेलीविजन के अभिनेता के तौर पर जाना जाता है। बहुमुखी प्रतिभा के धनी इरफान खान ने अपने 28 साल के फिल्मी करियर में कई यादगार फिल्मों में काम किया है। बॉलीवुड के साथ-साथ इरफान हॉलीवुड में भी सक्रिय रहे हैं। उन्होंने 'जुरासिक वल्र्ड' और 'स्पाइडर मैन' जैसी फिल्मों में भी काम किया है।

        एनएसडी से प्रशिक्षण लेने के बाद इरफान ने दिल्ली से मुंबई का रुख किया और वहां जाकर चाणक्य, भारत एक खोज, सारा जहां हमारा, बनेगी अपनी बात, चंद्रकांता और श्रीकांत जैसे धारावाहिकों में काम किया। वह 23 फरवरी, 1995 को लेखिका सुतपा सिकदर के साथ विवाह के बंधन में बंध गए। सुतपा भी एनएसडी में उनके साथ पढ़ी हैं। उनके दो बेटे भी हैं-नाम बाबिल और अयान। बहुमुखी प्रतिभा के धनी इरफान खान ने अपने 28 साल के फिल्मी करियर में कई यादगार फिल्मों में काम किया है।

        बॉलीवुड के साथ-साथ इरफान हॉलीवुड में भी सक्रिय रहे हैं। उन्होंने जुरासिक वल्र्ड और स्पाइडर मैन जैसी फिल्मों में भी काम किया है। इरफान ने पहली बार 2005 में आई फिल्म रोग में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इसके बाद फिल्म हासिल के लिए इरफान खान को उस साल का बेस्ट विलेन का फिल्मफेयर अवॉर्ड भी मिला। उसके बाद इरफान ने लंचबॉक्स, गुंडे, हैदर, पीकू और जुरासिक वल्र्ड में भी काम किया। इरफान खान को फिल्म पान सिंह तोमर के लिए नेशनल अवॉर्ड से सम्मानित किया गया और साथ ही उन्हें वर्ष 2011 में भारत सरकार की तरफ से पद्मश्री से सम्मानित किया गया।


Comments

Popular posts from this blog

Biography Of Rishi Kapoor/ऋषि कपूर का जीवन परिचय

Biography Of Rishi Kapoor Today, we are going to talk about an actor who was the king of romance during the decade of 80 to 90, who awakened love in many hearts and beat the hearts of people through his films.  Talking about the very handsome and talented actor Rishi Kapoor, let's know in a little detail about the same actor whom people fondly call Chintu ji is not among us today but he will always be in our heart.
Name : Rishi Kapoor (Chintu Ji ) Birth  : 4 September 1952 Death  : 30 April 2020 Wife   : Netu Singh Children : Ridhima Kapoor, Ranbir                                  Kapoor First Movie : Mera Naam Joker Last Movie : The Body Early Life Of Rishi Kapoor Rishi Kapoor was born on 4 September 1952 in Bombay (India) to a Punjabi Hindu family.  Raj Kapoor is his father's name and Prithviraj Kapoor was his grandfather.  He attended Campion School in Mumbai and later completed further studies from Mayo College, Ajmer.  His brothers Randhir Kapoor and Rajiv Kapoor, uncle …

Biography Of Sonu Sood/सोनू सूद का जीवन परिचय हिंदी में

Biography Of Sonu Sood 

Friends, today we are going to talk about an actor who is a good actor as well as a good person and also has a beautiful heart, although in the movies he has got a reputation as a villain, but today when the whole world is Kovid-19. As we are facing an epidemic, India has got a super hero in such a situation, as our son Sonu Sood is not less than a god for the migrant laborers, I do not believe that the migrant laborers who are unable to go to their homes Was and was preparing to go on foot, in such a situation, a person comes in front and says why will my friend, your brother, your friend, Sonu Sood Hai, will take one home and how Sonu Sood who plays the villain in the movies real life I have no work with any superhero. It would not be wrong to say that India has got a superhero at the time of the Kovid-19 epidemic, as Sonu Sood does not know about such a hero, although Sonu Sood Sir is not interested in any identity but I will try to tell you about Sonu Sood…